अकस्माती आश्चर्य ही है यह

Banswara : Launch of Geography exhibition

बात बांसवाड़ा की है जब मेरे मित्र भूगोल व्याख्याता प्रोफेसर (डॉ.) लक्ष्मीलाल सालवी जी ने सन् 2007 में सूचना केन्द्र में भूगोल पर केन्दि्रत प्रदर्शनी लगाई। इसके उद्घाटन अवसर पर जो कुछ हुआ वह सामने है। मनमौजी और फक्कड़ व्यक्तित्व के धनी वरिष्ठ साहित्यकार श्री श्याम अश्याम जी की विशेष अनुकंपा हमेशा रही है। उन्होंने पूरा परिदृश्य ही बदल दिया। वे अब इस दुनिया में नहीं रहे किन्तु असंख्य यादों में वे हमेशा जिन्दा रहेंगे। जिन कामों में मेरी अरुचि रही है, उसे भी कृपालु लोग स्नेह बरसा कर का लेने में कामयाब हो ही जाते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *