औपचारिकता मात्र होकर रह गए हैं श्राद्ध

हमारे कर्तव्य कर्म उन सभी लोगों के लिए हैं जो वर्तमान में हैं, अतीत में रहे हैं तथा भविष्य में आने वाले हैं। इस दृष्टि से दैवीय गुणों, धर्म-संस्कृति एवं समाज की सनातन परंपराओं से जुड़े व्यक्तियों का सीधा सा संबंध भूत, भविष्य और वर्तमान तीनों कालों से जुड़ा रहता है। आत्मा नित्य और अमर है, पूर्वजन्म और पुनर्जन्म में हमारा प्रगाढ़ विश्वास है और इस दृष्टि से हमारे प्रत्येक कर्म, स्वभाव और व्यवहार का असर हर युग में पड़ता है।

हमारा यह सनातन रिश्ता न सिर्फ बीते किसी युग से होता है बल्कि कई-कई युगों से हमारे तार बड़ी ही मजबूती से बंधे रहते हैं और आने वाले कई जन्मों तक यों ही किसी न किसी रूप में सम्बद्ध रहा करते हैं।

संबंधों के मामले में कई सारे साक्षात होते हैं, बहुत सारे आभासी होकर अनुभवित होते हैं और ढेरों संबंध ऎसे हुआ करते हैं जो अदृश्य होते हैं और किसी न किसी कर्षण शक्ति की वजह से हमेशा सेतु के रूप में पीढ़ियों को जोड़े रखते हैं।

यह जरूरी नहीं कि ये मनुष्य-मनुष्य में ही हों।  मनुष्य के अदृश्य तंतुओं भरे संबंध प्रायःतर देवी-देवताओं, ऋषि-मुनियों, सिद्धों, तपस्वियों से लेकर पितरों और भूत-प्रेतों, गंधर्व-किन्नर-नागों तक किसी से भी हो सकते हैं। ये सभी दिव्य आत्माएं हैं जिनके लिए शरीर की आवश्यकता नहीं होती बल्कि इनका समस्त व्यवहार और लोक व्यापार अशरीरी ही होता है।

यही कारण है कि हम वर्तमान में जिन स्थूल पदार्थों को औरों की प्रसन्नता के लिए अर्पित करते हैं वे सूक्ष्म तत्वों के रूप में रूपान्तरित व उनके अनुकूल होकर उन तक पहुंचते हैं और उनकी आवश्यकताओं का पोषण करते हैं।

इन सभी तक अपनी श्रद्धा पहुंचाने और उन्हें प्रसन्न करने के लिए अलग-अलग समय निर्धारित है और इसी दौरान जो कुछ श्रद्धा भाव से किया जाता है वह इन्हें प्राप्त होता है। जितनी अधिक श्रद्धा होगी उतनी अधिक इनकी प्रसन्नता का अनुभव किया जा सकता है।

यही कारण है कि पितरों के निमित्त श्राद्ध पक्ष निर्धारित है जिसमें हमारे समस्त पितर पृथ्वी लोक के निकट होते हैं और उन्हें अपने वंशजों से इस अवधि में श्राद्ध के रूप में प्राप्ति और वरदान देने की आकांक्षा साल भर से बनी रहती है। श्राद्ध केवल औरचारिकता या परम्परा का निर्वाह मात्र नहीं है बल्कि यह वैज्ञानिक तथ्य और सत्य से जुड़ा हुआ विधान है जिसे सामान्य बुद्धि या मंद बुद्धि लोगों के लिए समझना बड़ा ही मुश्किल है।

श्राद्ध पक्ष में हमारा समस्त ध्यान पितरों की तरफ लगा रहे, इसलिए दूसरे काम्य कर्मों को वर्जित किया हुआ है अन्यथा हम अपने स्वार्थों में इतने अधिक उलझे रहें कि पितरों की तरफ पर्याप्त ध्यान ही नहीं दे पाएं।

श्राद्ध श्रद्धा का प्रतीक है जिसमें अपने पुरखों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का अहसास करना हम सभी का प्राथमिक फर्ज है। जो इसे फर्ज समझकर पूरी श्रद्धा से निभाते हैं उन्हें आत्मतुष्टि भी प्राप्त होती है और पितरों की कृपा का भी वर्ष भर अनुभव करते रहते हैं।

जो लोग इसे भार या परंपरा समझ कर जैसे-तैसे श्रद्धाहीनता से औपचारिकता पूरी कर लेने के आदी होते हैं उनके लिए कुछ कहना व्यर्थ है क्योंकि जिनमें श्रद्धा का अभाव है वह जीवन में किसी भी प्रकार से सुगंध या सुकून का अहसास नहीं कर सकते।

श्रद्धा हमारे जीवन के प्रत्येक कर्म के लिए वह ऊर्जा है जो आशातीत सफलता भी दिलाती है और निरन्तर आगे बढ़ते रहने के लिए दिव्य प्रेरणा का संचार भी करती है।

श्राद्ध को लेकर जो भी परंपराएं और नीति-नियम निर्धारित हैं, उनका पूरा-पूरा पालन करते हुए अपनी सम्पूर्ण श्रद्धा और पितरों के प्रति आस्था के साथ श्राद्ध करें और इसमें औपचारिकता निर्वाह की बजाय इस बात का ध्यान रखें कि किस तरह हमारे पितर हम पर प्रसन्न हो सकते हैं।

श्राद्ध पक्ष में अपने पितर विशिष्टतम व दुर्लभ अतिथियों के रूप में उपस्थित रहते हैं। दूसरे अतिथियों को तो  साल भर में कभी भी अपनी सहूलियत देखकर बुलाया और जिमाया जा सकता है लेकिन पितरों के लिए केवल श्राद्ध पक्ष ही निर्धारित है। इसमें पूरे मनोयोग से जुटें और पितरों की प्रसन्नता व कृपा प्राप्ति के लिए उदारतापूर्वक सारे जतन करने में कहीं कृपणता का भाव न लाएं।

श्राद्ध में महत्त्व छप्पन भोग, मिष्टान्न और तरह-तरह के व्यंजनों का नहीं है, जीमने वालों की अधिकाधिक संख्या का भी नहीं है बल्कि श्राद्ध के लिए निर्धारित समय में पूरी श्रद्धा समर्पित करने का है।

जो जितनी अधिक श्रद्धा से पितरों का आवाहन, तर्पण, भोज आदि करता है उसे उतना अधिक लाभ प्राप्त होता है। भरपूर श्रद्धा समर्पण के साथ पिछली पीढ़ियों के प्रति तन, मन और धन से कृतज्ञता अर्पित करें और जीवन में आनंद पाएं।

श्राद्ध में हमारी अपरिमित श्रद्धा भावना से हमारे समस्त पितर तुष्ट हों, गति-मुक्ति को प्राप्त करें, यही कामना है। इन दिनों सर्वत्र श्राद्ध का माहौल चल रहा है। पर दुःख की बात यह है कि इसे केवल जीमण तक सीमित कर दिया  गया है और वह भी ऎसा कि श्राद्ध काल की बजाय सायंकाल या निशाकाल में सामूहिक भोजन।

कुछ फीसदी अगाध श्रद्धावान और संस्कारी धार्मिक परिवारों को छोड़ दिया जाए तो शेष सारे ही श्राद्ध के मूल मर्म से अनभिज्ञ हैं और श्राद्ध को केवल भोज का पर्याय मान लिया गया है।

यह स्थिति न हमारे पूर्वज पितरों के लिए ठीक कही जा सकती है और न हम सब भावी पितरों के लिए। क्योंकि विधि विधान से श्राद्ध नहीं किया जाएगा तो हम भी हमारे उन पितरों की श्रेणी में समाहित हो जाएंगे जिनकी संतति उनके लिए श्राद्ध का विधान भी पूरी नहीं कर पा रही।

केवल अलग-अलग परिवारों-घरों के स्वाद और दक्षिणा तक ही सीमित रहकर खुद भी दुर्गति को प्राप्त कर रहे हैं और अपने पितरों को भी तृप्त नहीं कर पा रहे हैं। इस विषय पर गंभीरता से सोचने की आवश्यकता है।

 श्राद्ध का आनंद देने, दिलाने और पाने वाले सभी के प्रति हार्दिक शुभकामनाएँ …।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *