हमेशा रखें एक ही संकल्प

अपने संकल्प का विभाजन नहीं करना चाहिए। पहले एक काम पूरा हो जाने दो। हमेशा एक-एक काम पूरा होने के बाद दूसरे काम का चिंतन करना चाहिए अन्यथा उस काम के होने लायक जो ऊर्जा हम संचित करते हैं वह बंट जाती है जिससे हमारी सफलता में विलम्ब या असफलता सामने आती है।  एक संकल्प की पूर्णता तक दूसरा कार्य याद नहीं आना चाहिए।