मोबाइल टूट जाए तो सुकून मानें

मोबाइल टूट जाए तो सुकून मानें

अक्सर लोगों के मोबाइल किसी न किसी समय नीचे गिरकर या और किसी कारण से अचानक टूट जाया करते हैं।

और कुछ नहीं तो स्क्रीन का काँच ही टूट जाएगा या और कोई क्षति हो जाएगी।  इस स्थिति में लोग घबरा जाते हैं।

मोबाइल टूटने पर घबराहट स्वाभाविक है क्योंकि महंगे मोबाइल का यों ही टूट जाना सभी का अखरता है।

अपनी जिन्दगी में जो वस्तु हमारे शरीर के साथ अधिक से अधिक समय लगी रहती है या हमारे पास में रहती है उसका हमारे शरीर के आभामण्डल से अदृश्य तरंगों का

सेतु बन जाता है।

जब भी हम पर संकट आता है तब वह आभामण्डल के इर्द-गिर्द घूमता रहता है।

इन नकारात्मक प्रभावों को मोबाइल इस कारण ग्रहण कर लेता है क्योंकि वही एक वस्तु है जो अधिकांश समय हमारे हाथ में या पास में रहती है।

इस कारण से नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव ये मोबाइल अचानक अपने हाथ से गिर जाता है और हम उन नकारात्मक प्रभावों से बच जाते हैं।

केवल मोबाइल को ही क्षति पहुंचती हैं कई बार जब हम पर विपरीत और नकारात्मक शक्तियों का प्रहार होता है तब अंगूठी टूट जाती है, घर पर प्रभाव हो तो तुलसी सूख जाती है।

इसलिए जब भी मोबाइल टूट जाए, तब यह तसल्ली कर लें कि कोई खतरा टल गया। दुःखी न हों बल्कि खुशी मनाएं कि हम खतरों से बच गए।