राष्ट्रीय स्तर पर बांसवाड़ा की अभिनव पहल

पीताम्बरा सुरक्षा कवच अभियान

कलियुग के प्रभाव और आसुरी शक्तियों के प्रसार की वजह से आजकल हममें से काफी लोग बेवजह परेशान, तनावग्रस्त और दुःखी रहते हैं।

खासकर ईमानदार, सज्जन और निष्ठावान लोगों के लिए संकट का दौर हमेशा बना रहता है। लेकिन संगठन के अभाव की वजह से हम लोग आसुरी शक्तियों, संवेदनहीन और दुष्ट लोगों का मुकाबला नहीं कर पा रहे हैं और इससे असंगठित ईमानदार सज्जनों को हमेशा तनाव झेलना पड़ता है। इस वजह से बीमारियों की आशंका भी बनी रहती हैं।

सभी प्रकार के सज्जनों, ईमानदारों और निष्ठावान लोगों को दैवीय कृपा से सुरक्षा प्रदान करने और उनकी उन्नति के लिए वैदिक, पौराणिक विधाओं से जुड़े मंत्र प्रयोगों का सामूहिक अनुष्ठान कर दैवीय सुरक्षा आवरण का अनुभव कराने के लिए बांसवाड़ा की संस्था गायत्री मण्डल के जागरुक साधकों द्वारा पीताम्बरा सुरक्षा अभियान आरंभ करने का निर्णय लिया गया है।

इसमें विशेष रूप से बगलामुखी महाविद्या के मंत्र-तंत्र एवं यंत्र प्रयोगों के माध्यम से पीताम्बरा देवी की कृपा प्राप्ति के अनुष्ठान सामूहिक रूप से किए जाएंगे। संस्था के पास बगलामुखी साधना के दीक्षित साधक काफी संख्या में हैं।

इस अभियान में शामिल होने वाले प्रत्येक सदस्य के सामने जब कभी कोई वाजिब समस्या होगी, उसके निवारण तथा समस्या से मुक्ति दिलाने में दैवीय शक्तियों की सहायता प्राप्त करने के लिए निश्चित संकल्प के साथ निश्चित समय में सभी साधकों द्वारा सामूहिक शक्ति आवाहन अनुष्ठान किया जाएगा।

यह अभियान पूरी तरह निःशुल्क होगा तथा इसका एकमात्र उद्देश्य उन सभी लोगों का कल्याण और सुरक्षा है जो ईमानदार और सज्जन हैं तथा निष्ठा से अपने कर्मयोग मेंं जुड़े हुए हैं।

परेशानियों, तनावों और दुःखों से घिरे लोगों को इनसे मुक्ति दिलाने में मदद करना ही सबसे बड़ी सेवा है।

आज यदि हम सभी ईमानदार, सज्जन और निष्ठावान लोग एक नहीं हुए तो आने वाला समय हमारे लिए और अधिक विपदाएं लेकर आएगा और तब हम कुछ नहीं कर पाएंगे। क्यों न आज ही से ऎसे दिव्य समूह का गठन करें जो मानवता की सेवा को समर्पित हो तथा दैवीय साधनाओं से शक्ति सम्पन्न हो।

अपने दिमाग से इस भ्रम को निकाल देना भी जरूरी है कि चापलुसी में रमे, रिश्वतखोर, भ्रष्ट और व्यभिचारी लोग पॉवरफुल होते हैं और किसी का कुछ भी बिगाड़ा कर सकते हैं। थोड़ी सी दैवीय ऊर्जाओं का आवाहन कर लिया जाए तो ऎसे दुष्टों का पक्का और शर्तिया ईलाज हो सकता है। भगवान की कृपा से सब कुछ संभव है। लेकिन हम अकेले इतनी शक्ति का संचय नहीं कर पाते हैं और इसीलिए सामूहिक शक्ति संचय का यह अभियान आरंभ किया गया है।

जो सज्जन, ईमानदार और निष्ठावान बंधु एवं भगिनिया इस अभियान में सहभागी होना चाहें वे मेरे इनबॉक्स मेंं अपना नम्बर, पूरा पता आदि भिजवायें ताकि एक ऎसे सुदृढ़, निरपेक्ष एवं संस्कारित साधकों का समूह तैयार हो सके, जो एक-दूसरे के लिए और अपने समूह के लिए उपयोगी बन सके और हम सभी लोग परम आनंद के साथ जीवनयापन कर सकें। इस बारे में आपके सुझावों का भी स्वागत है।

इस समूह में शामिल होने के लिए कृपया वे ही लोग पहल करें जो तमाम प्रकार के माँसाहार और नशों से दूर हैं, सदाशयी, कर्मयोगी और नैष्ठिक ईमानदार हों।

आईये कुछ करें, सज्जनों के लिए, समाज के लिए और देश के लिए।

यह अभियान 28 फरवरी 2017, मंगलवार से आरंभ किया जा रहा है।

निवेदक – पं. विद्यासागर शुक्ल-अध्यक्ष-गायत्री मण्डल-बांसवाड़ा ( 9414405830)

/डॉ. दीपक आचार्य-संस्थापक-पीताम्बरा परिषद, बांसवाड़ा। ( 9413306077)