मुफ्तखोरी जिन्दाबाद, भीखमंगे अमर रहें

अब सब जगह पुरुषार्थहीनता का दौर चल रहा है। परिश्रम से कमा-खाने की बजाय हम लोग ऎसा शोर्ट कट तलाशने में रहते हैं जहाँ करना कुछ भी नहीं पड़े और हासिल सब कुछ हो जाए। हम उन कामों और ओहदों को प्रतिष्ठापूर्ण मानने लगे हैं जिनमें परिश्रम नाम की कोई चीज ही न हो, और अधिक से अधिक मौज-मस्ती की अपार संभावनाएं हमेशा आकार लेती रहकर मुफतिया आनंद का अहसास कराती रहें।

इंसान की मनोवृत्ति यही होती जा रही है कि खुद का सब कुछ बचाये रखो, परायों का इस्तेमाल करो और जहाँ तक हो सके वहाँ मुफत का माल उड़ाओ, मुुफत की तफरी करो, सब कुछ मुफत ही मुफत पाने की चेष्टा करो। वन वे ट्रॉफिक के लिए निरन्तर लगे रहो, जावक के सारे रास्ते बंद कर दो, आवक के तमाम रास्तों, गलियारों और पिछले दरवाजों को खुले रखो, और तलाशते रहो नए-नए आवक के दरवाजे।

हर दिन यही कोशिश रहनी चाहिए कि कहाँ से कुछ अपने लिए पाने का जुगाड़ कर सकें, दुनिया का हर आवक भरा रास्ता अपनी ही तरफ आना चाहिए। हर दिन-हर क्षण एक ही एक चिन्तन यही कि अपना घर भरना चाहिए, अपने बैंक बैलेंस और लॉकर भरे रहें, अपनी ही अपनी तूती बोलती रहे।

 इसी तरह की सोच रखने वाले बहुत सारे लोग आजकल सभी स्थानों पर पूर्ण प्रतिष्ठा के साथ विद्यमान हैं जिनकी पूरी जिन्दगी इन्हीं विचारों और कल्पनाओं के इर्द-गिर्द घूमती रहती है। ये लोग हर क्षण इसी सोच में रहा करते हैं कि किस तरह पूरी दुनिया का अपने लिए जी भर कर इस्तेमाल किया जाता रहे।

इन लोगों की यही सोच रहती है कि पूरी दुनिया इनकी सेवा-चाकरी के लिए ही पैदा हुई है और जो लोग दुनिया में हैं वे उनके जरखरीद गुलाम हैं और उन्हीं के लिए सब कुछ मुफत में देने और सेवा करने के लिए हैं इसलिए इनसे जितना कुछ काम, सेवा, मुद्रा या संसाधनों का मुफतिया सहयोग लिया जाए, उतना पाने में कोई परहेज क्यों रखा जाए।

इस किस्म के लोग दुनिया में केवल माँगने और मुफत का जमा करने के लिए ही पैदा हुए हैं। मुफतलाल नाम से भले ही हम परहेज करते रहते हों, मगर मुफतिया किस्म के ये लोग सर्वत्र बेशरमी घास और गाजर घास की तरह पनपते जा रहे हैं।

हर काम और हर क्षण मुफत का ही तलाशने वाले इन लोगों की जिन्दगी को कोई नाम दिया जाए तो यह मुफतलाल से बढ़िया और कुछ हो ही नहीं सकता। अपने पुरुषार्थ का कुछ भी खर्च करना नहीं चाहते। 

बहुत सारे लोग हैं जो चाय-काफी और नाश्ता, खाने-पीने से लेकर घूमने-फिरने, वाहनों का सुख पाने, आवास, विश्राम, भ्रमण, परिधानों से लेकर रोजमर्रा की सभी गतिविधियों में मुफत का तलाशते हैं। और अपने लिए ही नहीं दूसरों तथा उनके परिचितों के लिए भी मुफ्त के प्रबन्ध करने के लिए सदैव तत्पर रहा करते हैंं।

आजकल जमाने के लोग सबसे अधिक परेशान हैं तो भिखारियों से, और दूसरे इन मुफतलालों से। देश और दुनिया कोई कोना ऎसा नहीं होगा जहाँ इन दोनों प्रजातियों का कोई प्राणी न मिले। पता नहीं इंसान में यह आसुरी स्वभाव और हरामखोरी की परंपरा क्यों इतनी अधिक बढ़ती जा रही है। 

पहले तो कमा खाने में नाकाबिल लोग ही दूसरों के भरोसे कभी सहानुभूति पाकर तो कभी याचना करते हुए दया और धरम के नाम पर कुछ न कुछ मांग खाते थे और इसी तरह अपना पेट भर लिया करते थे, जिन्दगी की गाड़ी को जैसे-तैसे चला लिया करते थे।

जब से हरामखोरी और परायों के भरोसे पलने-बढ़ने का युग शुरू हुआ है बड़े-बड़े और अभिजात्य कहे जाने वाले लोग उम्दा दर्जे के बेशर्म भीखमंगों की तरह पेश आने लगे हैं। कोई कहेगा मेरे मोबाइल में रिचार्ज करवा दो, कोई घर-गृहस्थी और रसोई के सामान के लिए औरों पर जिन्दा है, कोई  कपड़े-लत्ते और आभूषणों की भीख मांगता रहता है, कोई पैसों का भूखा है इसलिए दुनिया भर की बेईमानी करता है, कमीशन खाता है, रिश्वतखोरी करता है, टाँका मारता है, कोई ब्लेकमेलिंग से कमा रहा है, कोई दूसरों को डरा-धमका कर या कोई न कोई प्रलोभन दिखा कर चाँदी कूट रहा है, कोई मातहतों व अधीनस्थों से जात-जात की भीख मांग रहा है, किसी को रोज होटलों में खाना पीना चाहिए और वह भी दूसरों के पैसों से, कोई गिफ्ट की महाभूख पाले हुए है, कोई साहब के नाम पर खा पी रहा है, कोई मेम साहब से परेशान है।

खूब सारे हैं जिन्हें रोज पीने की आदत है लेकिन खुद के पैसों से नहीं, बल्कि पराये पैसों से। इसके लिए ये दिन भर मुर्गों का जतन करते रहने में ही समय गंवा देते हैं और फिर रातों को रंगीन बनाने में जुट जाते हैं। आजकल  हराम की पीने वालों की बाढ़ ही नज़र आती है। लोग-बाग हमेशा यही कहते सुने जाते हैं कि इनसे कोई काम कराना हो तो पिला दो। और कई सारे बेशर्म तो ऎसे हैं जो कि सीधे बोतल मांग लिया करते हैं और साफ कह डालते हैं कि बिना पिलाये काम नहीं होने वाला।

पुरुषार्थहीनता और कबाड़ जमा करने के मामले में बड़े-बड़े साहबों, मेमों से लेकर सारे स्वनामधन्य महान-महान लोग भी पीछे नहीं हैं। हर तरह के पुरुषार्थहीनों के जमावड़े के कारण ही संस्कार, संस्कृति और सभ्यता की जड़ों से मिट्टी हटने लगी है, समाज और देश से नैतिक चरित्र, मूल्यहीनता, सिद्धान्तहीनता और राष्ट्रीय चरित्र का ह्रास हो रहा है।

इस मामले में अब स्वाभिमानी और पुरुषार्थी लोगों का अकाल होता जा रहा है जो कि सिद्धान्तों पर जीते थे और जो कुछ करते थे वह अपने परिश्रम तथा पुरुषार्थ के बल पर।  इस घोर कलिकाल में वे सारे पुरुषार्थी व स्वाभिमानी लोग धन्य हैं जो अपनी कमाई पर ही जिन्दा हैं और पराये धन-द्रव्य और संसाधनों को विष्ठा या धूल से ज्यादा नहीं समझते।

आज की तमाम विषमताओं और समस्याओं की जड़ यही है कि हम लोग दूसरों की देखादेखी वैभव पाने को उतावले होते जा रहे हैं। जबकि यह वैभव किसी काम का नहीं है। पराये वैभव की तरह अपने आपको सम्पन्न बनाने के फेर में हम लोग गलत रास्तों और अनीति का प्रयोग करने के आदी होते जा रहे हैं। भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा कारण यह भी है।

और यही वजह है कि हम अपने पास बहुत कुछ होने का दंभ भर रहे हैं मगर भीतर से खोखले होते जा रहे हैं। हमारे दिमाग में शांति नहीं है, चित्त में प्रसन्नता नहीं है, लोग हमें हृदय से स्वीकारने से कतराने लगे हैं और हम मरते दम तक भी अशांत-उद्विग्न और लालची जीवन जीने को विवश हैं।

हर मुफतलाल की यही कहानी है। जीवन में आनंद, असीम शांति और उल्लास चाहें तो मुफ्त की तलाश  छोड़ें। पुरुषार्थ से सब कुछ पाने का यत्न करें। इसके लिए ईमानदारी से कर्तव्य कर्म करें, परिश्रम पर भरोसा रखें और दूसरों की ओर तकना बंद करें। भीख का प्रकार कोई सा हो, यह ईश्वर का सरासर अपमान है।

1 thought on “मुफ्तखोरी जिन्दाबाद, भीखमंगे अमर रहें

  1. हराम का खाओ-पीओ,
    जी भर कर मौज उड़ाओ,
    यही हो गई है हमारी जिन्दगी ..

    असली इंसान वही है जो परिश्रम से जीवन निर्वाह करता है।
    अपने कर्म के हिसाब से जो मिलता है उसी में संतोषपूर्वक गुजारा करने वाला इंसान उत्तम कोटि का है।
    भोग-विलास, औरों की देखा-देखी, फैशनी नकलची और दैहिक आनंद एवं संसार भर की सम्पदा को अपने नाम कर देने के लिए जिन्दगी भर आकुल-व्याकुल रहने और भ्रष्टाचार, रिश्वतखोरी एवं काले कारनामों में जुटा रहने वाला इंसान वैभव तो प्राप्त कर सकता है किन्तु आत्मिक शान्ति, भीतरी आनंद और जीवन लक्ष्यों को प्राप्त करने से वंचित ही रहता है।
    ऎसे संग्रही लोग मृत्यु के पहले भी श्वानों की तरह उद्विग्न चित्त रहते हैं और मरने के बाद भी या तो भूत-प्रेत बनकर भटकते रहते हैं अथवा भुजंग बनकर अपने-अपने बाड़ों व प्रतिष्ठानों में भुजंग या श्वान बनकर अर्से तक भटकते रहते हैं।
    इन जीवात्माओं को न जीने का सुख प्राप्त हो पाता है, न मरने के बाद मुक्ति।
    इस परम सत्य को स्वीकारें और संसार भर के जीवों और जगत के कल्याण के लिए निष्काम भाव से सेवा-परोपकार को अपनाएं।
    इस तरह अपने कर्म करें कि मरने के बाद संसार को हमारे जाने का पछतावा हो।
    वरना संसार में लाखों-करोड़ों की भीड़ हर युग में आती और चली जाती रही।
    उन्हें कोई याद नहीं करता।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *