हमन को इश्क मस्ताना, हमन को होशियारी क्या – कबीर

हमन को इश्क मस्ताना,  हमन को होशियारी क्या – कबीर