इन्हें भेंट न करें भगवान की तस्वीरें …

इन्हें भेंट न करें भगवान की तस्वीरें …

आजकल भगवान इतने सस्ते हो गए हैं कि कोई सा अतिथि कहीं से आ जाए, उसे खुश करने के लिए हम उपहार स्वरूप भगवान की तस्वीरें भेंट करने के आदी हो गए हैं।

पर शाश्वत सत्य ही है कि जो लोग भ्रष्ट, रिश्वतखोर, बेईमान, लम्पट, अहंकारी और नुगरे हों उन्हें भगवान की तस्वीरें भेंट नहीं करनी चाहिए क्योंकि  जिन लोगों को पैसों, पद के मद, दारू और भोगों से मोह है उन्हें भगवान से क्या लेना-देना।

ये लोग स्वाभाविक रूप से विशुद्ध अधर्मी होते हैं और अधर्मियों को भगवान की तस्वीर, प्रसाद, दैवीय परिधान या गीता-रामायण आदि कोई सा धार्मिक ग्रंथ भेंट करना धर्मविरूद्ध है।

इससे एक ओर जहाँ ईश्वर के प्रत्यक्ष अपमान का हमें पाप लगता है वहीं दूसरी ओर हमारी इस कुचेष्टा और चापलुसी से रूष्ट होकर भगवान हमारा अनिष्ट होने के सारे रास्ते खोल देते हैं।

किसी को कोई सा उपहार दें तो उससे पहले पात्रता का परीक्षण जरूर कर लें अन्यथा कभी भारी पड़ सकता है।

भगवान  और धर्म से संबंधित सामग्री केवल उन्हीं को भेंट करें जो भगवद्भक्त हों, सत्यवादी और धर्म परायण हों। इससे देने वाले और पाने वाले सभी को यश-कीर्ति और पुण्य की प्राप्ति होती है।