सत्याश्रयी सदा सुखी

अपने मुँह से जो शब्द बाहर निकलता है वह अपने आप में महानतम ऊर्जाओं का भण्डार होता है। इन शब्दों की इतनी जबर्दस्त ताकत होती…