आत्म संवाद

दोनों में से एक ही मिलना संभव – श्रेष्ठ कर्म की खबर छपवा कर राजी हो जाओ अथवा मौन कर्मयेाग कर पुण्य संचय करते जाओ।…