Rajsamand

– राजसमन्द परिक्रमा – सिद्धों का डेरा – साधकों का बसेरा, गुप्त साधनाओं का जागृत धाम उदासीन धूँणी

धर्म धामों से भरे भारतवर्ष में हर क्षेत्र में लोक श्रद्धा के प्राचीन आस्था धाम विद्यमान हैं जिनके प्रति स्थानीयों से लेकर दूर-दूर तक भक्तों की भावनाएं जुड़ी रही हैं। प्रभु श्रीनाथजी की नगरी श्रीनाथद्वारा भी धर्मधामों का गढ़ रहा है जहाँ खूब सारे श्रद्धास्थल मौजूद हैं और इनके प्रति धर्मावलम्बियों की गहरी आस्था रही है। इन्हीं में एक है ... Read More »

राजसमन्द परिक्रमा – खण्डेल के रोगहरण हनुमानजी … भक्तों को मिलता है यहाँ आरोग्य का वरदान

रामभक्त हनुमानजी कलियुग में शीघ्र प्रसन्न होने वाले देवता के रूप में मान्य हैं। यही वजह है कि हर कहीं बजरंगबली के मन्दिरों की लम्बी श्रृंखला देखने को मिलती है। चिरंजीवी हनुमान थोड़ी सी भक्ति करने मात्र से प्रसन्न हो जाते हैं और भक्तों के कष्टों का निवारण करने के साथ ही सुख-समृद्धि प्रदान करते हैं। राजसमन्द जिले में भी ... Read More »

राजसमन्द परिक्रमा — आस्था जगाता अनूठा पर्वत … जहाँ श्रृंगी ऋषि ने रमायी थी धूँणी

धर्म-अध्यात्म, ऎतिहासिक थातियों, अद्भुत शौर्य-पराक्रम भर ऎतिहासिक वीर-वीरांगनाओं, कला-संस्कृति और नैसर्गिक रमणीयता की दृष्टि से भारत भर में अपनी अन्यतम पहचान रखने वाला राजस्थान का राजसमन्द जिला सदियों से श्रद्धा, आस्था और पर्यटन की त्रिवेणी बहाता रहा है। यहाँ के सघन वनों और पर्वतों में ऎसे-ऎसे मनोहारी और चित्ताकर्षक दर्शनीय एवं पर्यटन स्थल विद्यमान हैं कि जिनका कोई सानी नहीं।  ... Read More »