HOME

कुत्तों को पछाड़ रहे हैं तलवे चाटने वाले

जो असली और सौ फीसदी खरा है उसका जीवन संघर्षों भरा होगा ही। इनके सामने पग-पग पर चुनौतियों के पहाड़ खड़े हुए नज़र आएंगे ही। कारण स्पष्ट है कि जो वास्तविक है वह इसीलिए खरा और परखा हुआ है क्योंकि वह पूर्णतया मौलिक है। फिर चाहे वह सोना हो या आदमी या फिर दुनिया का कोई सा तत्व। पंच तत्वों ... Read More »

कभी नगाड़े, कभी ढपोड़शंख

आजकल किसी भी कर्म का किसी भी प्रकार का आंशिक या पूर्ण सुकून कोई भी प्राप्त नहीं कर पा रहा है। कारण साफ है कि न कर्म में शुचिता रही है न वाणी में। कर्म और वाणी सब में झूठ और फरेब का घालमेल हो गया है। आदमी करता क्या है और कहता क्या? आदमियों की तमाम प्रकार की किस्मों ... Read More »

ज्योतिष चर्चा – कैसे रहेंगे आने वाले छह माह

22 दिसम्बर की प्रभात बताएगी – छह माह का भविष्य बुधवार शाम सायन में मकर का सूर्य आ जाने के बाद से ही उत्तरायण में रवि की गति आरंभ हो गई है। इस दृष्टि से 22 दिसम्बर 2016 गुरुवार की प्रभात मकर के सूर्य में होगी। स्वरोदय विज्ञान के अनुसार यदि जीवात्मा का जागरण गुरुवार सवेरे सूर्य यानि की दांये ... Read More »

समाजभक्षी हैं या तमाशबीन

समाज में बहुत सी बीमारियां और अभाव इतने अधिक गहरे तक जड़ें जमा लिया करते हैं कि इनके जख्म, सिहरन और सिसकियाँ दिखती नहीं लेकिन पूरे समुदाय और राष्ट्र के लिए परमाणु बम विस्फोट से भी अधिक विध्वंसक और महाघातक से भी अधिक गंभीर होती हैं और इनका प्रभाव पूरे समाज और देश ही नहीं बल्कि विश्व भर पर पड़ता ... Read More »

अनूठा प्रयोग – यों करें गुस्से को शान्त

जब भी किसी बात पर गुस्सा आए या और कोई हम पर गुस्सा होने की कोशिश करे, मन ही मन तीन बार निम्न मंत्र का जप कर लें। खुद का क्रोध भी खत्म हो जाएगा और सामने वाला भी गुस्सा करना भुल जाएगा। कई बार हमें यह आशंका रहती है कि जिससे मिलने जा रहे हैं वह गुस्सा तो नहीं ... Read More »

यों पाएँ परम आनन्द

हम सभी के पास वह सब कुछ है जिससे हम आनन्द को प्राप्त करते हुए जीवन को सफल बना सकते हैं लेकिन हमारा दुर्भाग्य कहें या आत्महीनता कि हम अपने आपको भी पहचान नहीं पा रहे हैं और हमें जो कुछ प्राप्त है उसका उपयोग करते हुए आनन्द पाना भी भूल गए हैं। वरना हम सभी के पास आनंद का ... Read More »

बर्दाश्त न करें मक्कार खटमलों को

अनुशासन, मर्यादा और आदर-सम्मान ऎसे शब्द हैं जो उन्हीं लोगों के लिए उपयुक्त और सटीक लगते हैं जो लोग वाकई इसके योग्य हैं और जिन्हें देखकर मन में श्रद्धा या स्नेह जगता है। संसार में जिन लोगों से मिलकर, जिनके साथ काम कर अच्छा अनुभव होता है, प्रेम, माधुर्य और सहयोगी माहौल मिलता है, वे ही लोग अच्छे हुआ करते ... Read More »

रविवार को करें सूर्य आराधन

चेहरे का ओज-तेज, आँखों की ज्योति, बुद्धि, आरोग्य प्राप्ति, कार्यसिद्धि पाने के लिए भगवान सूर्य को अघ् र्य  प्रदान करें। उषा काल में तीन बार और उसके बाद चार बार अघ् र्य दें। चौथा अघ् र्य प्रायश्चित के लिए है। अघ् र्य से मतलब है अभिमंत्रित जल का समर्पण। पानी भरे लोटे में लाल चन्दन, इत्र और अक्षत डालकर उसमें ... Read More »

यों पाएं कालसर्प पर काबू

कालसर्प से अधिक घबराने की जरूरत नहीं है। अपने उस किसी भी देवी या देवता के छोटे से मंत्र का रोजाना 11 बार जप कर लें जिनके पास सर्प हो। जैसे शिवजी के गले में रहता है। ॐ नमः शिवाय के जप कर सकते हैं। अपने आस-पास की किसी बड़ी नदी में हर पखवाड़े स्नान कर लें और पानी में ... Read More »

देवरों को धोक लगाएँ भौंपों को आदर दें

पहले कुछ ही देवालय और देवरे हुआ करते थे इसलिए किसी को कोई दिक्कत नहीं होती थी, जिधर से गुजर रहे हों उधर चार-पाँच देवरों के समक्ष हाथ जोड़ लिया करते थे, समय हो तो एक बार अंदर जा आएं, और अंदर न भी जा पाएं तो कम से कम उस दिशा में राम-राम तो कर ही लिया करें। और ... Read More »