मंगलमय नव वर्ष हमारा

नव वर्ष का उल्लास यानि की पिण्ड से लेकर ब्रह्माण्ड तक में नवोन्मेषी ऊर्जा, अपरिमित ताजगी भरी हवाएं और प्रकृति तथा परमेश्वर की अनुकंपा से…

जहाँ निष्काम मैत्री, निश्छल प्रेम – वहीं आनन्दस्वरूप ईश्वर की अनुभूति

       प्रेम और मैत्री जीवनयापन की आदर्श आचार संहिता के अंग हैं जिन पर चलते हुए समूचे संसार को अपना बनाया जा सकता है। भगवान…

पैदल चलें, स्वस्थ रहें

जो लोग शरीर के कहे अनुसार चलते हैं वे जल्दी  ही थक जाया करते हैं। इसके विपरीत जो लोग शरीर को अपने अनुसार चलाते हैं…

कछुआछाप नज़रबन्दी

हम सभी में भगवान ने अपार क्षमताएं भरी हुई हैं लेकिन इन्हें जानने की हमने कभी कोई ईमानदार कोशिश नहीं की। सभी तरह की संभावनाओं…

पिशाच ही हैं झूठे लोग

इंसान की दो प्रजातियां ही मुख्य हैं। सच्चा और झूठा। जो इंसान सच बोलता है वही वास्तव में सच्चा होता है। और जो सच बोलता…