श्री मणि बावरा के बारे में प्रबुद्धजनों के उद्गार …

प्रबुद्धजनों, शिक्षाविदों और साहित्यकारों के मन में श्री मणि बावरा जी के अपार स्नेह, श्रद्धा और आदर भाव हमेशा बना रहा। विभिन्न आयोजनों में उनकी…

यादगार साहित्यकार – मणि बावरा

स्मृति शेष शब्द-शिल्पी  –  मणि बावरा ताजिन्दगी दिया अँधेरे के खिलाफ रोशनी का पैगाम श्री मणि बावरा – वागड़ के शिक्षा और साहित्य जगत का…

वागड़ रत्न – पं. मुरलीधर भट्ट

लोकमंगल के कर्मयोगी,  चट्टानी व्यक्तित्व, आयु 92 पार, उत्साह अपार        माही, मैया और प्रकृति के इस आँगन में समाज-जीवन के हर क्षेत्र में एक…

स्मृति शेष – फक्कड़ी बादशाह दिनेश दादा – हरफनमौला युगीन किरदार का अवसान

अचानक खबर आयी कि दिनेश दादा नहीं रहे। लगा कि जैसे परंपरागत पुरातन ज्ञान और अनुभवों से भरा कोई आत्मआनन्दी सितारा आसमान से टूट कर…

स्मृति शेष – दिव्य गायत्री साधक बण्डू महाराज का महाप्रयाण

शैव, शाक्त और वैष्णव उपासना धाराओं के साथ ही वैदिक परम्पराओं और प्राच्यविद्याओं का गढ़ रहा राजस्थान का दक्षिणांचलीय जिला बांसवाड़ा धर्म-कर्म के क्षेत्र में…

दैदीप्यमान नक्षत्र हर दिल अजीज प्रो. (डॉ.) महिपालसिंह राव

लोक मनोविज्ञान के फक्कड़ दर्शन विज्ञानी …. जिनका समग्र जीवन है आनंद और उल्लास भरा सुनहरा मनोरम प्रपात विद्वानों के प्रदेश वाग्वर की आदिकाल से…

हिमालय की चोटियों और आसमान तक पहुँची वागड़ की महक

साहसी शैलपुत्री महक सनाढ्य ने महकाया आसमान राजस्थान के छोटे से शहर बाँसवाड़ा की महक हिमालय की उत्तुंग पर्वतमालाओं तक जा पहुँची है। बहुआयामी व्यक्तित्व…