Astrology

वृक्षारोपण से पाएं सुख-समृद्धि, यश-कीर्ति एवं दीर्घायु

जीवन की तमाम समस्याओं से मुक्ति चाहें तो आज हरियाली अमावास्या से लेकर महीने भर के भीतर अपनी जितनी आयु है, उतने पेड़ निष्काम भाव से लगाएं और उन पेड़ों को भगवान भोलेनाथ के नाम समर्पित कर दें। दीर्घायु और यशस्वी जीवन का आनन्द पाना चाहें तो अपने ग्रह-नक्षत्र से संबंधित पेड़ लगाएं और उनका सुरक्षित पल्लवन कर बड़े करें। जैसे-जैसे ... Read More »

अमावास्या के अनुभूत प्रयोग – आभामण्डल से हटाएं नकारात्मकता

लगातार लम्बे समय से शरीर भारी-भारी लग रहा हो, इच्छा होने के बावजूद काम में उत्साह न आ रहा हो, निराशा और निरुत्साह की स्थिति हो, बेवजह गुस्सा आता हो, किसी भी प्रकार की बीमारी या संकट का अहसास हो रहा हो तब यह उपाय कर लें। इससे शरीर का भारीपन दूर हो जाएगा, रोग से मुक्ति मिलेगी और अपने ... Read More »

इन्हें भेंट न करें भगवान की तस्वीरें …

आजकल भगवान इतने सस्ते हो गए हैं कि कोई सा अतिथि कहीं से आ जाए, उसे खुश करने के लिए हम उपहार स्वरूप भगवान की तस्वीरें भेंट करने के आदी हो गए हैं। पर शाश्वत सत्य ही है कि जो लोग भ्रष्ट, रिश्वतखोर, बेईमान, लम्पट, अहंकारी और नुगरे हों उन्हें भगवान की तस्वीरें भेंट नहीं करनी चाहिए क्योंकि  जिन लोगों ... Read More »

मैच के जीतने या हारने से साधकों का क्या भला होगा?

क्रिकेट हो या कोई सा मैच, अक्सर लोग पगलाये हुए रहते हैं। जीत-हार की चिन्ता और चिन्तन में दिन-रात लगे रहते हैं। कोई कहता है यह जीतेगा, कोई कहता है वह जीतेगा। साधकों को चाहिए कि वे भविष्यवाणियों और फालतू के औचित्यहीन प्रपंचों और प्रसंगों से दूर रहें। हम साधक लोग संध्या-गायत्री, जप-तप आदि के द्वारा दैवीय और दिव्य ऊर्जा ... Read More »

प्रसाद

देवी-देवताओं को समर्पित हर वस्तु प्रसाद इसे बेचने व खरीदने वालों को लगता है पाप भगवान को समर्पित की गई हर वस्तु अपने आप प्रसाद में परिवर्तित हो जाती है। जो सामग्री भगवान की मूर्तियों के समक्ष या मंदिरों में चढ़ाई जाती है उसका प्रसाद रूप में निःशुल्क वितरण उन वालों को कर दिया जाना चाहिए जो जरूरतमंद हैं। आजकल ... Read More »

ये लोग न करें दान

जो लोग कर्ज में दबे हुए हैं, जिनके जीवन की रोजमर्रा की आवश्यकताएं पूरी नहीं हो पा रही हैं  उन लोगों को दान-पुण्य नहीं करना चाहिए। ऎसे लोग दिखावों या किसी के बहकावे में आकर दान-पुण्य करते हैं, दक्षिणा देकर पूजा-पाठ कराते हैं, उसका कोई फल प्राप्त नहीं होता। इनके लिए यही श्रेयस्कर है कि पशु-पक्षियों के लिए दाना-पानी की ... Read More »

यही है असली छत्र-छाया

जिन लोगों के माता-पिता जीवित होते हैं वे लोग ग्रह-नक्षत्रों, भूत-प्रेतों तथा बाहरी नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव से सुरक्षित रहते हैं। माता-पिता का साया हमारे लिए अपने आप में अभेद्य सुरक्षा कवच है जिसे कोई नहीं भेद सकता। यहां तक कि शनि की ढैया और साढ़े साती में भी सुरक्षित रहते हैं।  पर शर्त यही है कि माता-पिता हमसे प्रसन्न ... Read More »

टोटका – बोस को यों दिखाएं आईना

बोस कैसा भी कमीन हो, सीधा हो जाएगा किसी नालायक, व्यभिचारी भ्रष्ट और बेईमान-बदतमीज स्त्री या पुरुष बोस से परेशान हैं तो यह टोटका करें। जिस किसी कागज पर अपने ऎसे किसी नालायक बोस के हस्ताक्षर अंकित हों, उसके हस्ताक्षरों को लाल स्याही से इक्कीस से ज्यादा घेरे बनाते हुए यह भावना करें कि बोस रस्सियों से जकड़ा जा रहा ... Read More »

वास्तु चर्चा – बाथरूम रखें साफ-सुथरा, गंधमुक्त

जिस घर के बाथरूम से बदबू आती रहती हो, रसोईघर में झूठन पड़ी रहती हो, रात के समय झूठे बर्तन बिना माँजे पड़े रहते हें, वह घर वास्तु शास्त्र के हिसाब से कितना ही श्रेष्ठ क्यों न बनाया गया हो, वहाँ वास्तुदोष के साथ ही सारे ग्रह-नक्षत्र कुपित रहते हैं और कोई भी देवी-देवता उस घर की ओर झाँकते तक ... Read More »

मन, कर्म और वचन से पक्का, वही ज्योतिषी सच्चा

ज्योतिष यों तो हमेशा लोकप्रिय रहा है लेकिन इन दिनों इसके प्रति कुछ ज्यादा ही लगाव देखा जा रहा है। जब से टीवी पर ज्योतिष और चमत्कारों की चर्चाएं बढ़ी हैं तब से तो ज्योतिष का ग्लैमर ही कुछ विचित्र होता जा रहा है। लेकिन जिस अनुपात में ज्योतिष का वर्चस्व बढ़ा है उस अनुपात में ज्योतिषीय सच्चापन नहीं बढ़ ... Read More »