Astrology

घर न ले जाएं आफिस के काम

आफिस या काम-काज स्थल से जुड़े कामों को घर न ले जाएं। आफिस से संबंधित कागजात और सामग्री घर ले जाने से घर का वास्तु भंग होता है और इससे दाम्पत्य या पारिवारिक जीवन में कलह पैदा होता है तथा घर की शांति और सुकून छीन जाता है। जहाँ तक हो सके ऑफिस के काम ऑफिस में ही निपटा लें। ... Read More »

वास्तु चर्चा – प्रगति में बाधक हैं ये

हर प्रकार का प्रवाह अपने आप में सहज, सरल और निर्बाध रहना चाहता है। जब तक उसकी यह मौलिक अवस्था बनी रहती है तभी तक यह प्रवाह देखने में आनंददायी और अनुभव करने में सुकूनदायी रह सकता है। जैसे ही उसकी मौलिकता मेंं आंशिक या पूर्ण अवरोध आरंभ होता है वैसे ही यह प्रवाह अपना अस्तित्व खोने लगता है या ... Read More »

जो आजमाएं सो निहाल- सेहत और समृद्धि पाने का अनूठा दीवाली टोटका ….

दीपावली पर उपहारों, मिठाइयों और भेंट-पूजा से पाएं नई जिन्दगी दीपावली पर दो तरह के लोगों की भरमार रहती है। एक तरफ वो बहुसंख्य लोग हैं जिनके लिए यह विवशता होती है कि अपने बॉस-बॉसियों, आकाओं, कल्याणकारी समाज की नवरचना के लिए ही पैदा हुए मध्यस्थों और लोकपूज्य माने जाने वाले महान और बड़े लोगों को खुश करने के लिए ... Read More »

बगलामुखी साधना को अपनाएं, निश्चिन्त जिन्दगी पाएं …

भ्रष्ट, दुष्ट, शोषकों, अत्याचारियों, दुराचारियों, अहंकारियों और पापियों से तंग आ गए हों तो किसी श्रेष्ठ और सिद्ध गुरु से दीक्षा प्राप्त कर बगलामुखी उपासना को आरंभ कर दें। मामूली साधना से थोड़े ही दिनों में शत्रुओं का अपने आप ऎसा ईलाज हो जाएगा कि सब लोग देखते रह जाएंगे। पर शर्त यही है कि बगलामुखी साधना वे ही लोग ... Read More »

दैवीय गुण आएं तभी शक्ति उपासना सफल

शक्ति तत्व का अर्थ अत्यन्त व्यापक और गहन अर्थों को समेटे हुए हैं। शक्ति उपासना से भी तात्पर्य केवल नवरात्रि का भजन-पूजन, कीर्तन-गरबा, देवी महिमा के भजनों, मंत्रों और स्तुतियों से भरी कैसेट्स, फिल्मी और दूसरे गाने, माईक और डीजे चलाने से ही नहीं है बल्कि शक्ति की उपासना तभी सार्थक है जबकि हमारे भीतर शक्ति तत्व का जागरण, संचरण ... Read More »

नवरात्रि पर विशेष – भक्तिभाव से करें मैया की आराधना

साल भर में कुछेक अवसर ही ऎसे आते हैं कि जब उस समय विशेष में जो कुछ किया जाता है उसका अनन्त गुना फल प्राप्त होता है और इस काल में प्राप्त ऊर्जा जीवन भर के लिए उपयोगी बनी रहती है। इसका कभी क्षरण नहीं होता। नवरात्रि ऎसा ही एक पर्व है जिसमें की जाने वाली शक्ति उपासना अपने आप ... Read More »

यह प्रयोग करके देखें

अपने मन और शरीर यदि भारी-भारी लग रहे हों तो अपनी जितनी आयु है उतने बिस्किट लेकर अपने शरीर से सात बार उतार दें और इन्हें कुत्तों को खिला दें। इससे तत्काल भारीपन दूर होकर मन-शरीर हल्का हो जाएगा।     Read More »

समस्याओं पर विजय पाने दुर्गा मंत्र का प्रयोग करें

अपने जीवन की सभी समस्याओं के निवारण के लिए जब भी फुरसत मिले, निम्न मंत्र का मन ही मन जप करते रहें।   ॐ दुं दुर्गायै नमः   इससे थोड़े दिनों बाद अपने आप में दैवीय शक्ति का जागरण होगा और घर-परिवार की सारी समस्याएं दूर हो जाएंगी। शौच और लघुशंका करने के समय को छोड़कर इसे कभी भी कर ... Read More »

यह पोस्ट केवल ब्राह्मणों के लिए है – इसलिए हो रहे ब्राह्मण दरिद्री और भिखारी

ब्राह्मणों को लोग भोजन कराते हैं इसके पीछे कई सारे कारण हैं। इनमें एक कारण यह भी है कि ब्राह्मण भोजन से पुण्य की प्राप्ति होती है। जो ब्राह्मण नित्यप्रति संध्या और गायत्री करते हैं वे तो यजमानों का भोजन अपनी तपस्या के बल पर पचा लिया करते हैं लेकिन जो लोग संध्या-गायत्री नहीं जानते या नहीं करते, वे इसे ... Read More »

धर्मक्षेत्रे – वागड़ में श्रावण मास की खण्डित पूर्णाहुति

वागड़ अंचल में अमान्त पद्धति के अनुसार श्रावण मास 21 अगस्त, सोमवार को समाप्त होगा। जो लोग श्रावण मास के व्रत करते हैं उनके लिए व्रत का उद्यापन कुछ स्थानों पर अमावास्या को ही हो जाता है। पूरे माह व्रत रखकर व्रत के अंतिम दिन अमावास्या को ही पूर्णाहुति कर दिए जाने के बाद भोजन-प्रसाद ग्रहण कर लिया जाता है। ... Read More »