ऊँट का मुँह टेढ़ा है

‘चाँद का मुँह टेढ़ा है’ यह सुन-सुनकर उब गए ऊँट ने अपना मुँह टेढ़ा कर लिया। चाँद से पूछ रहा है – बताओ, रेत के इस समन्दर में मेरी ऊँटनी रुठकर कहाँ छिपी है ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *