इस महापाप से बचें …

भगवान की कृपा का अनुभव करें, मुक्ति का मार्ग पाएं …

भगवान के परम और सर्वश्रेष्ठ ज्ञानी और पूज्य भक्त बड़ी ही श्रद्धा से दिन-रात व्हाट्सअप पर भगवान के जो फोटो और वीडियो तथा धार्मिक उपदेश पोस्ट करते रहते हैं, उन्हें अपने मोबाइल से कभी डिलीट नहीं करें।

ऎसा करने वाला महान पाप का भागी होता है, उसे कुंभीपाक नरक की यातनाएं भोगनी पड़ती हैं।

डिलीट करना उन भक्त-श्रेष्ठों का अपमान है जो अपने नित्यकर्म, संध्या वन्दन, गायत्री जप और पूजा-पाठ एवं साधना के अमूल्यों क्षणों को भुलाकर ब्रह्ममुहूर्त से लेकर रात्रि शयन तक बड़ी मेहनत करके, समय और डेटा खर्च करके परिश्रम करते हुए जाने किन-किन गु्रप्स से इन्हें आयात करके निर्यात में रमें रहते हैं।

मोबाइल की मेमोरी फूल हो जाए तो मोबाइल ही बदल दें पर भगवान के फोटो और भगवान तथा धर्म और भक्ति से संबंधित फोटो और वीडियो को संग्रहित कर रखें।

ऎसा जीवन के अंतिम समय तक करते रहने से पुण्य का संचय होता है और इस पुण्य से भगवान की कृपा प्राप्त होकर मोक्ष की प्राप्ति हो जाएगी अथवा अगला जन्म अच्छा मिलेगा।

इनको ही नहीं बल्कि उन लोगों को भी भगवान की असीम कृपा प्राप्ति होती रहती है जो रोजाना इन महान भक्तों द्वारा भेजे जाने वाले भगवान के फोटो और वीडियो के दर्शन में काफी समय बिता दिया करते हैं, उपलब्ध इन्टरनेट डेटा की भगवान के नाम पर बलि चढ़ा देते हैं और अपना अमूल्य समय इस व्हाट्सअपिया भक्ति में लगाकर खुद को भगवान के करीब होने का सुकून प्राप्त कर लिया करते हैं।

असल में यह भी भक्ति का एक प्रकार ही है।

उन नैष्ठिक और सिद्ध भगवद् भक्तों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करें जो घर बैठे हमें दुनिया भर के भगवानों और उनकी लीलाओं का दर्शन और श्रवण करा कर हम सभी को भक्त और सत्संगी बनाने का महान कार्य कर रहे हैं।

ये देवदूत न होते तो न हमें मोक्ष प्राप्त हो सकता था और न ही परलोक सुधरने की कोई संभावना थी।

हमें अन्तर्मन से यह स्वीकारना ही पड़ेगा कि इस घोर कलियुग में भगवान के फोटो और वीडियो की नियमित रूप से लगातार बारिश करने वाले ये देवदूत हमारे सम्पर्क में न होते, हमारे ग्रुप में नहीं होते, तो हमारा कितना अहित होता रहता।

हमें निरन्तर धर्म और भक्ति का बोध कराने वाले ये सभी महानुभाव और उनके द्वारा ज्ञान की प्राप्ति हमारे पूर्वजन्मों और पुरखों के महानतम पुण्यों का ही प्रभाव है।

अन्यथा हम सौ-हजार जन्म तक अधर्मी और भक्तिहीन बने रहते और हमारी काया का कल्याण तक नहीं होता। मोक्ष या भगवान की कृपा पाने की बातें तो कल्पना ही बनकर रह जाती।

इनका आभार मानें कि ये हमें भगवान और भक्ति का मार्ग दिखा रहे हैं।

भगवान के फोटो और वीडियो पोस्ट करने वाले भक्त के लिए किसी भी प्रकार की मुण्डन, तर्पण, उत्तर क्रिया, गरुड़ पुराण वाचन, भोज, पगड़ी रस्म, श्राद्ध, संवत्सरी आदि कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि जीते जी ही वह मुक्ति प्राप्त करने लायक पुण्यों और भगवत्कृपा का संचय कर लेता है।

बोलो भक्त और भगवान की जय।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *