श्रेय की लूट से बचें

कुछ भी होना या न होना हर इंसान के अपने भाग्य या ईश्वर की कृपा अथवा स्व कर्म पर निर्भर होता है। हर आदमी किसी न किसी कामना के साथ जगता है और कामना पूरी होने के लिए हरसंभव प्रयास करता है।

जब तक इच्छापूर्ति नहीं हो जाती है तब तक वह हरसंभव प्रयासों में लगा रहता है। काम हो जाने पर खुश होता है और नहीं होने की स्थिति में नैराश्य ओढ़ लेता है।

दुनिया में जो लोग आए हैं उन सभी के साथ यह होता रहा है। बहुत कम लोग ऎसे होते हैं जो हर हाल में खुश रहते हैं और सुख-दुःख दोनों स्थितियों में सम हुआ करते हैंं। अपने-अपने भाग्य और कर्म पर भरोसा रखने वाले लोगों के काम होने या न होने की बातों को एक तरफ छोड़ कर देखें तो इंसानों का एक वर्ग ऎसा है जो किसी के लिए न कुछ कहता है, न करता है बल्कि इस वर्ग में शामिल लोग हमेशा इसी फिराक में लगे रहते हैं कि कैसे किसी भी काम का श्रेय लूट लिया जाए।

ये लोग सच को सच अथवा झूठ को झूठ नहीं कह सकते, जैसा देस वैसा भेस बना लेते हैं और हर रंग में रंग जाते हैं। पूरी दुनिया में काफी संख्या ऎसे लोगों की है जो कि हर काम का श्रेय लेने के लिए लपकते ही रहते हैं, भले ही कार्य संपादन या प्रेरणा संचरण में इनकी अपनी कोई भूमिका न हो।

सीधे तौर पर इस काम को तस्करी, डकैती या चोरी भी कहा जा सकता है। कोई सा काम अपने माध्यम से हो, उसका श्रेय लेने में कोई बुराई नहीं है, श्रेय मिलना ही चाहिए। इसके साथ ही कोई भी इंसान हमारे अपने लिए कुछ भी करे, उसके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करनी भी चाहिए।

लेकिन बहुधा लोग इसमें कंजूसी करते हैं। अव्वल बात यह है कि जो लोग सेवा और परोपकार की भावना से कोई काम करते हैं तब वे प्रतिफल या धन्यवाद की कोई कामना नहीं करते हैं बल्कि उन्हें यह अच्छा भी नहीं लगता कि कोई उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करे या एवज में कोई लाभ देने का मानस रखे।

दूसरी ओर बहुत सारे लोग हैं जो करते कुछ नहीं पर जब किसी का कोई काम बन जाता है तब आगे बढ़कर श्रेय पाने के लिए लपक पड़ते हैं और जताते ऎसा हैं कि जो कुछ हो रहा है, हुआ है वह सब उनकी मेहरबानी और मेहनत से ही हुआ है और इन्हें बरकरार रखने के लिए उनकी कृपा का बने रहना नितान्त जरूरी है।

इस किस्म के लोग दुनिया में और कुछ करें या न करें, इनकी निगाह उन सारे कामों पर हमेशा बनी रहती है जो होने वाले हैं अथवा हो सकते हैं। फिर जैसे ही कोई सा काम होता है, संबंधितों को फोन लगाने में तनिक भी देर नहीं करते कि अमुक काम हो गया है और हमारी वजह से हुआ है।

यह अपने आप में श्रेय लूटने से कम नहीं है। बिना कुछ किए बेवजह श्रेय प्राप्त करना अपने आप में चोरी है और जो लोग ऎसा करते हैं उनके प्रति परिचितों, सम्पर्कितों में हमेशा इस बात को लेकर अश्रद्धा बनी रहती है कि ये लोग काम-धाम या सहयोग तो कुछ करते हैं नहीं बल्कि बिना कुछ किए श्रेय पाने के लिए उतावले बने रहते हैं।

श्रेय चुराने वाले लोग भले ही अपने आपको कितना ही महान, समर्थ और प्रभावशाली समझते रहें, मगर हकीकत यही है कि समझदार लोग इन्हें खुदगर्ज और स्वार्थी ही मानते हैं और मन ही मन इन लोगों के प्रति अश्रद्धा ही दर्शाते हैं।

यह अलग बात है कि ऎसे लोगों के पद और कद को देखते हुए कोई भी इनके सामने कुछ कह पाने की हिम्मत नहीं रख पाता है। लेकिन मन में सब समझते हैं और उतना ही भाव देते हैं जितना देना चाहिए।

श्रेय उसी का लें जिसके संपादन में हमारी अपनी निजी भागीदारी हो, जिस काम में हमारा कोई योगदान न हो, उसका श्रेय लूटने की कोशिश न करें। यह अपने आप में व्यभिचार और पाप है और इससे हमारा अपना ही नुकसान होता है क्योंकि हर झूठ कुछ समय पश्चात अपने आप बेपरदा होता ही होता है।

इससे भी एक कदम आगे बढ़कर सोचें कि जो हम किसी और के लिए कर रहे हैं वह हमारा फर्ज है और इसका श्रेय लेना अपने फर्ज के साथ अन्याय करना है। एक गहरे रहस्य की बात को समझने की कोशिश करें कि हमारे द्वारा किए गए या सहयोगी भूमिका वाले किसी भी कर्म का जब हम श्रेय या आभार पा लेते हैं अथवा पाने को उतावले रहते हैं तब हमारा वह कर्म धरती पर ही खत्म हो जाता है।

कितना अच्छा हो कि हमारे द्वारा किए गए किसी भी सत्कर्म का श्रेय लेने से हम बचें। ऎसा होने पर यह श्रेय हमारे पुण्य में परिवर्तित हो जाता है और वह मृत्यु के उपरान्त हमारी आत्मा के साथ जाता है तथा मोक्ष प्राप्ति अथवा अगले जन्मों में श्रेष्ठ योनियों की प्राप्ति में मददगार सिद्ध होता है।

2 thoughts on “श्रेय की लूट से बचें

  1. श्रेय का रूपान्तरण करें पुण्य में …?

    किसी का भी काम करें, कोई सा करें, श्रेय कभी न लें। आभार या श्रेय पाते ही इसका पुण्य में रूपान्तरण नहीं हो पाता। यदि हम किसी काम का श्रेय न लें तो भगवान हमारे माध्यम से निरन्तर काम कराता रहता है, पूरे प्रवाह के साथ ईश्वर हमारे द्वारा हाथ में लिए गए हर कर्म को शीघ्र एवं आसानी से पूर्ण कराता रहता है।
    जब हम किसी कर्म का आभार या श्रेय प्राप्त नहीं करते, तब वह कर्मफल हमारे पुण्य में रूपान्तरित हो जाता है जिसका लाभ हमें इस जन्म में भी प्राप्त होता है और आने वाले जन्मों में भी।

  2. रूपान्तरण करें पुण्य में …?

    किसी का भी काम करें, कोई सा करें, श्रेय कभी न लें। आभार या श्रेय पाते ही इसका पुण्य में रूपान्तरण नहीं हो पाता। यदि हम किसी काम का श्रेय न लें तो भगवान हमारे माध्यम से निरन्तर काम कराता रहता है, पूरे प्रवाह के साथ ईश्वर हमारे द्वारा हाथ में लिए गए हर कर्म को शीघ्र एवं आसानी से पूर्ण कराता रहता है।
    जब हम किसी कर्म का आभार या श्रेय प्राप्त नहीं करते, तब वह कर्मफल हमारे पुण्य में रूपान्तरित हो जाता है जिसका लाभ हमें इस जन्म में भी प्राप्त होता है और आने वाले जन्मों में भी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *