भूत-पलीत भाई-भाई

संसार भर का परम सत्य है कि सज्जनों में पारस्परिक मैत्री का अक्सर अभाव रहता है जबकि दुर्जनों में मैत्री जल्दी भी होती है और…

लोभो नाशस्य कारणम्…

हर जीवात्मा की यही स्थिति है। स्वाद और मुफत का प्राप्त करने के फेर में फंस ही जाता है। दूसरों की दुर्गति और अनुभवों से…

भौंकने वाले करमचारी

जिस दफ्तर में जो इंसान जोरों से बातें करता या चिल्लाता रहता है, समझ लो वह पहले जन्म में इसी बाड़े का कार्मिक या श्वान…

मनोरंजनिया लेखन

उस लेखन का क्या अर्थ, जिससे किसी का भला न हो, अभावों और समस्याओं का खात्मा न हो, खट्टे-मीठे-कड़वे-तीखे अनुभवों का समावेश न हो। केवल…

सबसे बड़ा रुपैया

संवेदनशीलता अपने आप में वह गुण है जो सकारात्मक माहौल मिलने पर श्रेष्ठ कर्मों का जनक होता है और उपलब्धियों के आसमान तक ले जाता…

कारोबारी सेवा जिन्दाबाद

लोकजीवन के ये दो शब्द बड़े ही महत्त्वपूर्ण हैं – सेवा और धंधा। दोनों ही का समाज और क्षेत्र से सीधा संबंध है। काम-धंधा या…