ज्योतिष – वास्तु चर्चा

अपनी सीट अपेक्षाकृत ऊँची रखें …

कर्मक्षेत्र में धाक जमाने के इच्छुक लोगों को चाहिए कि वे अपनी कुर्सी को अन्य कुर्सियों की अपेक्षा थोड़ी ऊँचाई पर रखें। इससे सामने वाले हम पर हावी नहीं हो पाते। राजा-महाराजाओं और अंगे्रजों से लेकर हमारी पुरानी परंपराओं में इसीलिए निर्णायक अधिष्ठाताओं और प्रभावशाली लोगों की कुर्सी थोड़ी  ऊँची रहा करती थी। यही बात बैठक स्थलों  के लिए भी लागू है। जिन स्थलों में वीआईपी या बैठक लेने वालों की सीट अपेक्षाकृत नीची होती है और सामने बैठने वालों की कुर्सियां अधिक ऊँचाई पर होती हैं, माना जाता है कि उन बैठकों का प्रभाव ज्यादा नहीं रहता।