जिन्दगी सँवारने के लिए जरूरी है स्नेह-सम्बल-प्रोत्साहन

समस्याएँ हर किसी के जीवन में सामने आती हैं। और अभावों का दौर प्रत्येक इंसान केलिए मरते दम तक बना रहता है। जो समृद्ध हैं, जिनके पास सब कुछ होता है वे भी ताजिन्दगी किसी न किसी रूप में याचक और अभावग्रस्त बने रहते हैं। और जो वाकई दीन-हीन हैं उनके लिए भी समस्याओं और अभावों का साया हमेशा बना ही रहता है।

बहुत थोड़े ही लोग ऎसे होंगे जो कि अपनी सादगी और मितव्ययता के साथ संतोषी जीवन का सुख-सुकून पाते हुए आत्म आनंद में निमग्न रहते हैं।  और ये ही वे लोग हैं जो अपनी जिन्दगी पूरी मौज-मस्ती और फक्कड़ी के साथ जीते हैं और अपने ही हाल में मस्त रहते हैं।

शरीर के धर्म और जीवन के मर्म को आत्मसात करते हुए जियो और जीने दो के संकल्पों के साथ रहने वाले लोग पूरी जिन्दगी आनंद भाव में रमण करते हैं और दूसरों को भी आनन्दित करने की क्षमता रखते हैं। इसके विपरीत दूसरी किस्म के लोगों में कोई एक भी ऎसा नहीं मिलता जो कि अपनी जिन्दगी से खुश और संतुष्ट हो।

मनुष्य के जीवन में समस्याओं और इच्छाओं का कोई अंत नहीं है ये सागर की तरह गहरी और आसमान की तरह विराट व्यापक हैं। कई पीड़ाएं और समस्याएं पूर्व जन्मों के कर्मों का परिणाम होती हैं तो कुछ वर्तमान जन्म के असंयम और स्वेच्छाचारिता की वजह से। और बहुत सारी मन की चंचलता या कि भौतिकवाद से उपजे मानसिक अतृप्ति और पागलपन का परिणाम होता है।

समस्याएं चाहें किन्हीं भी हालातों का परिणाम हों, मानव जीवन के लिए यह विषाद और पीड़ाओं का कारण होती ही हैं। दुःखों और समस्याओं के लिए कोई भी अछूत नहीं है। इनके लिए अमीर-गरीब, छोटे-बड़े, ऊँच-नीच आदि का कोई भेद नहीं है। ये देश, काल और परिस्थितियों से भी परे होती हैं।

ये समस्याएं चाहे कितनी ही बड़ी या छोटी क्यों न हों, इनका निवारण भी समय के साथ होता चला जाता है और बुरी स्थितियां समाप्त होने लगती हैं। स्पष्ट कहा जाए तो समस्याएँ समय सापेक्ष हुआ करती हैं और एक निश्चित समय तक ही अपना असर दिखाने के बाद स्वतः समाप्त हो जाती हैं।

इसलिए जो लोग समस्याओं और दुःखों से त्रस्त हैं उन्हें सावधानी के साथ इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि पूरे धैर्य के साथ समय को गुजार दें। हर दुःख और समस्या के लिए निश्चित समय सीमा होती है जिसके बाद वह प्रभावहीन और अस्तित्वहीन हो जाती है।

परेशानियों वाले दिनों के लिए सबसे अच्छा उपाय यही है कि उस समय को धीरे-धीरे पूरी प्रसन्नता के भाव रखते हुए यह समझकर गुजार दें कि अच्छा समय निश्चित आने वाला है। यह प्रकृति का अटल नियम है। परिवर्तन सृष्टि का नियम है जो कभी खण्डित नहीं हो सकता।

जो लोग दुःखों व परेशानियों से प्रभावित हैं उनसे भी ज्यादा जिम्मेदारी उन लोगों की है जो उनके घर-परिवार के हैं अथवा ईष्ट मित्र या परिचित हैं। समस्याओं से घिरे व्यक्ति के साथ कैसा बर्ताव होना चाहिए, इसके लिए भी मनोविज्ञान का सहारा लिया जाना चाहिए। पीड़ित व्यक्तियों के साथ इसी प्रकार का व्यवहार करना चाहिए जिससे उनकी पीड़ाओं और दुःखों पर मरहम का अहसास हो न कि उन्हें उद्वेलित या और अधिक पीड़ित करने वाला।

परेशानियों से जूझ रहा कोई भी व्यक्ति अपने सम्पर्क में आए अथवा हम ऎसे लोगों से मिलें, हमारा पहला फर्ज यह हो कि उन्हें हमारी मुलाकात से दिली सुकून का अहसास होना चाहिए और यह लगना चाहिए कि हमसे मिलने के बाद कुछ हल्कापन महसूस हुआ है।

हम कुछ करें या न करें, समस्याएं तो समय के साथ अपने आप गायब हो जाने वाली हैं। हमारा तो काम बस इतना होना चाहिए कि समय गुजारने लायक सम्बल प्रदान करें ताकि ऎसे प्रभावित लोगों के लिए मुश्किलों भरे ये दिन ज्यादा आत्महीनता और दर्द भरे न रहें।

समस्याओं से जूझ रहे लोगों को स्नेह का संबल देना और आत्मविश्वास भरना सबसे बड़ा फर्ज और पुण्य है। ऎसे बुरे वक्त में कभी भी इन लोगों को उपेक्षित न करें, घृणा का भाव न रखें तथा किसी भी प्रकार की प्रताड़ना न दें। इन्हें न कटु वचन कहें, न किसी बात के लिए कोसें। ऎसा करने से इनका आत्मविश्वास कमजोर होता है और जब किसी व्यक्ति का आत्मविश्वास क्षीण होता है तब उसकी पीड़ाओं और परेशानियों का घनत्व बढ़ जाता है और यह स्थिति संबंधित व्यक्ति के लिए कदापि अच्छी नहीं कही जा सकती।

कोई कितने ही बड़े दुःख-दर्द और मुश्किलों से भले घिरा हुआ हो, प्यार, स्नेह और सम्बल के दो शब्द और सान्निध्य भी इन्हें खूब सुकून दे जाता है और इनकी पीड़ाओं और दर्द का घनत्व काफी कम हो जाता है।

कठिनाइयों भरे वक्त में इस प्रकार का सम्बल जो देता है वह पूरी जिन्दगी याद रखा जाता है। इसलिए जीवन में जहाँ मौका मिले, ऎसे व्यक्तियों को सम्बल प्रदान करने में कोई कंजूसी नहीं रखें जिन्हें हमारा थोड़ा सा स्नेह और सम्बल नई ताजगी और ऊर्जा का अहसास कराने में समर्थ है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *