निष्काम लोकमंगल अपनाएं

परिवेश में जो परिवर्तन लाने के लिए यह जरूरी है कि हमारे मन में इसके लिए स्वस्थ और सकारात्मक बीजों का अंकुरण हो। चित्त की भावभूमि शुद्ध और परोपकारी दृष्टि से युक्त होती है तभी लोक मंगल की भावनाओं का सृजन बिंब पाने लगता है। वैचारिक शुद्धता के साथ लक्ष्यों की पवित्रता भरी भावभूमि जितनी अधिक निर्मल, स्वच्छ और लोकमंगल की भावनाओं से भरी होती है उतना ही दिव्यता का समावेश होता है।

परिवर्तन की निर्मल धार के लिए तन-मन की शुचिता जरूरी है तभी अपने विचार सूक्ष्म से स्थूल स्वरूप प्राप्त होने लगते हैं।  मन में वैचारिक और लक्ष्यगत शुद्धता का अभाव होने की स्थिति में हम अपने आस-पास, पारिवारिक अथवा परिवेशीय परिवर्तन तक में वांछित सफलता प्राप्त नहीं कर सकते। मन और कथनी-करनी में जरा सा भी फर्क आने की स्थिति में हमारे द्वारा जो भी कार्य संपादित होते हैं वे पूर्णता का आभास भले ही करा लें मगर इनमें न प्रभावोत्पादकता होती है, न वह गंध, जो कार्य की पूर्णता के बाद मस्ती और शाश्वत आनंद का अहसास करा सके। सिर्फ स्थूलता का अहसास मात्र किया जा सकता है, फिर ऎसे कर्मों के कालजयी होने की संभावनाएं भी धुंधली ही रहती हैं।

निष्काम, निःस्पृह तथा शुचितापूर्ण संकल्पों के साथ ही हमारे आचरण और कर्मयोग मिलकर सुनहरा स्वरूप पाते हैं और यही सफलता का अहसास कराते हैं। इन्हीं कर्मों की सुगंध युगों तक बनी रहती है। ये कर्म ही प्रेरक तथा अनुकरणीय भावों का संचरण करते हैं और कत्र्ता समूहों को श्रेय भी प्रदान करने का सामथ्र्य रखते हैं।

लोक मंगल की दिशा-दृष्टि जब परोपकार और संवेदनशीलता के रसों में पग कर निकलती है तब यह लोक कल्याण के सुनहरे रंगों और रसों का दरिया उमड़ा देती है फिर चाहे यह समाज-जीवन के किसी भी क्षेत्र से संबंधित उत्थान की बात हो या अपने क्षेत्र के लोगों के उत्थान या प्रोत्साहन की या फिर किसी महान सामाजिक और भौगोलिक या अन्य बदलाव की, इन सभी के लिए मन की तरंगों से लेकर कर्म की नींव तक सब कुछ पूर्ण मौलिक और शुद्ध होना जरूरी है और तभी मन की कल्पनाओं के साकार होने और लक्ष्य की प्राप्ति की डगर आसान हो जाती है। इसका असर यह होता है कि प्रत्येक कर्म में ईश्वरीय अनुकंपा प्राप्त होने के साथ ही सामने आने वाली बाधाओें का शमन स्वतः होता रहता है।

यही  लोकोन्मुखी एवं समाजोन्मुखी कर्म जीवन को सफल बनाने के साथ ही युगों तक अपने कर्मयोग का कीर्तिगान करते हैं। यश और प्रतिष्ठा की प्राप्ति कर्म की सफलता पर निर्भर हुआ करती है।

जो काम अच्छे होते हैं वे अपने आप लोक प्रतिष्ठा प्राप्त कर लेते हैं, उनके लिए प्रचार या किसी धूम-धड़ाके की जरूरत नहीं हुआ करती। इसके विपरीत जो कर्म सिर्फ पब्लिसिटी और लोकप्रियता पाने के उद्देश्य से किए जाते हैं उनका प्रभाव कुछ दिनों में ही समाप्त हो जाता है और उस प्रकार के प्रचार के बाद वह कार्य भी अपने आप क्षीण होता रहकर नष्ट होने लगता है और कुछ माहों और समय के बाद लोग इन कर्मों को पूरी तरह भुला बैठते हैं।

कर्म और यश का पारस्परिक संबंध तभी तक है जब तक कि कर्म के प्रति दिली लगाव और मौलिकता के साथ निष्काम भावना का पुट हो।  आरंभ से ही कर्म प्रधान जीवन होने पर यश अपने आप प्राप्त होने लगता है जबकि पहले से ही यश और प्रतिष्ठा का लक्ष्य लेकर काम शुरू किया जाता है तब वह कार्य निष्फल हो जाता है और वह कार्य निष्प्रभावी हो जाता है।  क्षणिक प्रचार के बुलबुलों के बुदबुदाने के बाद यह यश फिर कहीं गायब हो जाता है और कत्र्ताओं के हाथ न कर्म का श्रेय लग पाता है, न कोई यश। तब यह कर्म समय की बरबादी के सिवा कुछ नहीं होता।

कोई सा कर्म हाथ में लें, उस कर्म के प्रति निष्ठा और लगाव के साथ यह भी देखें कि वह अपनी रुचि का है भी या नहीं।  विषयगत अरुचि और कर्म की विवशता किसी भी कार्य का प्रतिफल पहले ही आधा कर दिया करती है।

इसके साथ ही कर्म के आरंभ से लेकर पूर्णता की प्राप्ति तक निष्काम भाव से लोकमंगल की दृष्टि रखी जाए तो सृष्टि बदलने और नवनिर्माण के हमारे प्रयासों को सुनहरा आकार मिल सकता है। जो यश-प्रतिष्ठा भी देता है और कालजयी दुआएं भी।