Monthly Archives: August 2017

कहाँ जाएँ बेटियाँ?

कहाँ जाएँ हमारी बेटियाँ। कहाँ पाएँ सुरक्षित माहौल और अभेद्य रक्षा कवच । बेटियों का अपना क्या है? कहाँ तो बेटियों का जन्म स्थल, कहाँ कर्मस्थल, कहाँ पीहर  और कहाँ ससुराल, फिर बेटियों का अपना कौन सा एक ठिकाना रह पाता है।जहाँ ब्याही जाती हैं उस कुनबे के साथ घुमक्कड़ी ठिकानों पर समन्वय की मजबूरियां भी तो हैं। पता नहीं ... Read More »

गौवंश चाहता है ईमानदार प्रयास

गौवंश ऎसी प्रजाति हो गई है जिस पर हर तरफ कहर बरपता रहता है। हाल ही आयी बाढ़ में पथमेड़ा में बहुत बड़ी संख्या में गौवंश काल कवलित हो गया। इसके अलावा विभिन्न स्थानों पर गौवंश का क्षरण होता जा रहा है। कसाइयों के हाथों कटने और यांत्रिक कत्लखानों में कटने वाली गायाें की बात को छोड़ भी दें तो ... Read More »

जे दृढ़ राखे धर्म को तेहि राखे करतार

जिन लोगों को मनुष्य जन्म पाने के उद्देश्य और जीवन लक्ष्यों का पता ही नहीं होता, वे झूठे, मक्कार, धूर्त और पाखण्डी लोग अधमाधम गति से जीते हुए अपने आपको सर्वश्रेष्ठ और अपने कुकर्मों को ही अपना लक्ष्य मानते हैं। यह संसार की रीति है कि चोर-डकैत, बेईमान और भ्रष्ट लोग उन सभी को पागल समझते रहे हैं जो ईमानदार ... Read More »