Monthly Archives: September 2016

हम क्या कर रहे हैं हिन्दी के लिए?

आज हिन्दी दिवस है। हम सब हिन्दी के लिए ही आज चर्चाओं में व्यस्त हैं और हिन्दी के लिए समर्पित होने के वादों और दावों में रमे हुए अपने आपको इस तरह प्रदर्शित करेंगे कि जैसे हमसे बड़ा हिन्दी भाषी और हिन्दी सेवी कोई और हो ही नहीं। हिन्दी का संबंध आम इंसान से है और हरेक आदमी को इस ... Read More »

कई जन्मों तक रहते हैं प्रारब्ध, ज्ञान और अनुभव

यह विषय उन लोगों के लिए नहीं है जो पूर्वजन्म या पुनर्जन्म में विश्वास नहीं रखते। यह केवल उन्हीं के लिए है जो सनातन परंपरा के अनुपालक, संवाहक एवं संरक्षक हैं और जिनका पूर्वजन्म व पुनर्जन्म के सिद्धान्त में विश्वास है। आमतौर पर हम सभी लोग अपनी तुच्छ और संकीर्ण बुद्धि से सोचते हैं और यह मानते हैं कि मनुष्य ... Read More »

प्रकृति पूजा, स्वाद और सेहत का संदेश देता है तारणा तेरस का अनूठा व्रत

प्रकृति पूजा को सर्वोपरि मानने वाली भारतीय संस्कृति में वैज्ञानिक रहस्यों और शाश्वत सत्य से परिपूर्ण सदियों पुरानी परंपराएं विद्यमान हैं जिन्हें ऋषि-मुनियों ने दिव्य अनुसंधानों के माध्यम से लोक तक पहुंचाया और पिण्ड से लेकर ब्रह्माण्ड तक के कल्याण के प्रयोग सुझाए। दुर्लभ हो गया है यह व्रत इनमें से खूब सारे समय के साथ समाप्त हो गए और ... Read More »