ये मशालची भी है, और मसालची भी

मनुष्य के लिए पारस्परिक संवाद जीवन का वह अनिवार्य क्रम है जो तमाम समस्याओं और विषमताओं का निवारण कर सफल जीवनयापन का सुकून देता है। …

लोक श्रद्धा का धाम – माताजी मन्दिर पाँच ईमली

प्रतापगढ़ जिला मुख्यालय के समीप पाँच ईमली के पास अवस्थित माताजी का मन्दिर क्षेत्रवासियों की आस्था का केन्द्र है। यहां कई सारे पाषाणों को दैवीय…

ग्राम्य श्रद्धा का केन्द्र – जोईड़ा बावजी धाम

ग्राम्य जनजीवन में लोक देवताओं व लोक देवियों का अहम् स्थान है। आम ग्रामीणों की श्रद्धा और विश्वास के प्रतीक ऎसे कितने ही छोटे-मोटे श्रद्धास्थल…

आस्था का केन्द्र है छायन का देवनारायण मंदिर

पूर्वजों, पितरों और लोक देवताओं से लेकर देवी-देवताओं के प्रति अगाध श्रद्धा और विश्वास की परंपरा के प्रतीक असंख्य देवालय व देवरे राजस्थान के मेवाड़,…

चैनपुरा – यहाँ मिलता है गौवंश को चैन-सुकून

अच्छा लगा चेनपुरा गौशाला का प्रबन्धन प्रतापगढ़ जिले में सेवारत रहते हुए एक दिन जा पहुंचा पड़ोसी मध्यप्रदेश राज्य के नीमच जिले के चेनपुरा गांव…

ग्राम्य आस्था का केन्द्र कचोटिया का भैरूजी बावजी धाम

ग्रामीण संस्कृति में ग्राम देवताओं और लोक देवताओं तथा लोक देवियों के दर्शन-पूजन-अर्चन की विशेष परंपरा सदियों से विद्यमान रही है। इनके प्रति ग्रामीणों की…