अकस्माती आश्चर्य ही है यह

बात बांसवाड़ा की है जब मेरे मित्र भूगोल व्याख्याता प्रोफेसर (डॉ.) लक्ष्मीलाल सालवी जी ने सन् 2007 में सूचना केन्द्र में भूगोल पर केन्दि्रत प्रदर्शनी…

आत्मीयता के क्षण ऊर्जावान साथियों के संग

राजसमन्द सूचना केन्द्र में प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे ऊर्जावान युवाओें व जिज्ञासु स्वाध्यायी पाठकों के बीच अपनत्व की अनुभूति का सुकून संगच्छध्वं संवदध्वं …

सहेज कर रखें अपनों को

करोड़ों की जनसंख्या के बीच कुछ गिने-चुने लोग ही अपने हो पाते हैं। लेकिन यही काफी नहीं है। जो अपने हैं उन्हें अपना बनाए रखना…

यादगार फोटो – डूंगरपुर में ज्योतिष सम्पर्क यात्रा, 2005

डूंगरपुर में ज्योतिष कार्यक्रम के दौरान प्रसिद्ध ज्योतिषियों श्री हरीश शर्मा जी व श्रीमती कल्पना शर्मा (उदयपुर),  जाने-माने अभिभाषक एवं ओजस्वी वक्ता कान्तिशंकर शुक्ला, साहित्य…

स्मृति शेष – अलौकिक योगिनी सिद्ध तपस्विनी तुलसा माँ

तुलसा माँ – वह दैदीप्यमान शक्तिपुंज, जिनका स्मरण आते ही सादगी, त्याग-तपस्या, मानवीय करुणा और सेवा-परोपकार के माधुर्य से भरा एक ऎसा चेहरा सामने उभर…