भौंकते रहेंगे भौंकने वाले

आजकल कोई दूसरी वाणी सुनाई दे या नहीं, लेकिन भौंकने की आवाज हर जगह आसानी से सुनी जा सकती है।  गली-मोहल्लों, चौराहों, सर्कलों, जनपथों से…

समय बड़ा बलवान है

संसार दो तरह के लोगों में विभक्त है। एक वे हैं जो कहते हैं कि मरने तक की फुर्सत नहीं है, दूसरे लोगों से पूछो…

जो कुछ है वह औरों के लिए

समाज की हर इकाई दूसरी इकाइयों को मदद देने के लिए है और इस परस्पर सहकार, समन्वय और सामंजस्य भरी श्रृंखलाओं की पुष्टि से ही…

दमखम है तो लिखें अपने मौलिक विचार, चुरा-चुरा कर क्या लिखना

किसी भी अच्छी, सच्ची और जनहित-राष्ट्रहित की बात पर कुछ कहना-लिखना अपने आप में शौर्य-पराक्रम से कम नहीं। सत्य के उद्घाटन और यथार्थ प्रतिक्रिया देना…

पुण्य करें खुद के हाथों

दान, धरम और पुण्य ऎसे नाम हैं जिनके बारे देश का कोई कोना ऎसा नहीं है जहाँ इनके बारे में सुनने को नहीं मिले। जहाँ…

तालियाँ बजाओ, वाह-वाह करो

दुनिया में चारों ओर स्तुतिगान की होड़ मची है। हर तरफ अनगिनत लोग  बेमन से भी प्रशंसा और स्तुतिगान में व्यस्त रहने लगे हैं।  स्तुतिगान…

तटस्थ मतलब नपुंसक

स्वार्थ की अँधी दौड़ में मानवीय प्रजातियाँ कहीं स्थिर नहीं हो पा रही। लोग दौराहों, चौराहों, सर्कलों और अंधी राहों-गलियों में भटकने लगे हैं। जब…